Wednesday, 18 January 2017

/.. मेरे मित्र भी हैं ढेरों - और उनमें अधिकाँश काबिल हैं - पर कुछ 'ढोर' भी हैं - और कुछ 'भक्त' भी .. .. तो उन सब मित्रों में से मैं आज केवल 'भक्त' मित्रों से मुखातिब हो यह पूछना चाहता हूँ कि - ये एन.डी. तिवारी को भाजपा में लेने का कोई भी एक संभावित फायदा हो तो बता दो .. और यदि फायदा नहीं बता पाओ तो फिर ये बता दो कि ये बेवकूफी का दोषी कौन ?? ..../.... मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ


// कल आडवाणी - आज तिवारी - कल हज़ारे ?? .. मार्गदर्शकों का दर्शन करते रहें ....//


परम पूज्य रात्रिस्मर्णीय आसारामी N.D. तिवारी आज N.D. मोदी की अपनी पैतृक मातृक भ्रातृक पार्टी में खिचे चले गए .. और उन्हें लपक भी लिया गया .. ..

मैनें कहा था ना कि संस्कार कभी छुपते नहीं .. और भाजपा एक संस्कारित पार्टी है .. और मैनें तो ये भी कहा था ना - कि संस्कारित व्यक्ति तो मरते दम भी अपनी या फिर दूसरे की भी जड़ खोद निकाल लेता है .. और ये भी - कि राजनीति में कोई पद पक्का नहीं होता .. आज है कल नहीं रहेगा .. ..

सो अब प्रश्न खड़ा होता है कि लालकृष्ण आडवाणी मार्दर्शक बने रह सकेंगे ?? .. या क्या अंध मार्गदर्शक ही बने रहेंगे ?? .. या मूक मार्गदर्शक बने बने पीछे के मार्ग से निकाल भगा दिए जाएंगे ?? .. और मैं तो यह भी सोच रहा था कि यदि ऊपर जाने की उम्र में कोई भाजपा में खिंचा चला जाता है तो फिर फर्क भी क्या पड़ता है .. अंत तो एक जैसा ही हुआ ना .. मोक्ष तो प्राप्त हो ही जाएगा ना .. मरेगा नहीं तो मार तो दिया ही जाएगा ना .. नहीं तो भगा तो दिया ही जाएगा ना !! .. ..

खैर ये तो भाजपा का आंतरिक मामला है .. और अब तो भाजपा में बहुत कुछ आतंरिक महत्वपूर्ण हो जाएगा .. मसलन अब तो सब के 'अंदरूनी' मामले भी सामने आ ही सकते हैं .. जैसे हो सकता है कि कल ही N.D. तिवारी की जगह अन्ना हज़ारे मार्गदर्शक बना दिए जाएं .... है ना !!

मेरे 'fb page' का लिंक .. https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl

/.. और सलमान खान बरी हुए !! .. .. आज तो भक्त भी कन्फ्यूज्ड होंगे कि खुश हो लिया जाए या छाती कूटी जाए .. .. वैसे मैं बिल्कुल भी कन्फ्यूज्ड नहीं .. जब भी भक्त दुखी होते हैं मैं खुश हो जाता हूँ - और जब भी भक्त खुश होते हैं मैं तब भी खुश ही रहता हूँ .. क्योंकि मेरा सरोकार सलमान से ज्यादा तो भक्तों से है .. क्योंकि भले ही मोदी को तरस आता हो या ना हो - मुझे भक्तों पर हमेशा से तरस आता रहा है .. वो जब भी पागलों जैसे तालियां बजाते हैं तब भी - और वो जब भी हैरान परेशान होते हैं तब भी .. .. और इसलिए मैं आज भी खुश हुआ .. .. और मैं खुश इसलिए भी हुआ क्योंकि कम से कम सलमान पर न्यायिक प्रक्रिया के तहत पूरा केस तो चला ना !! .. ऐसा तो नहीं हुआ ना - कि कोई जांच नहीं कोई केस नहीं .. .. कोई आवाज़ नहीं उठाएगा .. कोई प्रश्न नहीं पूछेगा .. .. कौन सहारा ?? कौन बिड़ला ?? कैसा व्यापम ?? कैसा हवाला ?? कौन सी डिग्री ?? कैसा गड़बड़झाला ?? .. कौन किसका जीजा ?? कौन किसका स्स्स्साला ?? ..../.... मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ


// भक्तों !! अक्ल या औकात हो तो मोदी को चुनाव तक दिल्ली में रोक कर बताओ ना !! ...//


हाय रे हाय !! .. कल तो चरखाईयत की भी हद्द हो गई .. भाजपाइयों ने दिल्ली में केजरीवाल के विरुद्ध प्रदर्शन कर मारा .. और मुद्दा था .. दिल्ली परेशान है और केजरीवाल चुनाव में व्यस्त दिल्ली से बाहर हैं .. ..

बेचारे भक्त !! .. लगता है अनाथ से हो गए .. ना कोई सुनने के लिए तैयार - ना कोई सुनाने के लिए मिल रहा .. और तो और उनके जंग बहादुर भी भाग खड़े हुए हैं .. दिल्ली में कचरे के ढेर लगे हैं और भक्तों के भी कचरे हो रहे हैं .. आबोहवा ख़राब है और भक्तों की साँसे फूल रही हैं - हालत और हालात दयनीय हैं .. ..

और उधर चरखेवाले भी आजकल चहक नहीं पा रहे हैं - और केजरीवाल हैं कि रोज डायलॉग पे डायलॉग पेले जा रहे हैं .. और चरखेवाले को चरखे माफिक चला रहे हैं .. .. इसलिए मुझे लगता है कि केजरीवाल तो सुधरने वाले नहीं .. और सुधरने की जरूरत भी नहीं .. ..

और इसलिए भक्तों !! ..एक मुफ्त सलाह .. अब मोदी को दिल्ली से जब तक बाहर मत जाने दो जब तक केजरीवाल ५ राज्यों के चुनाव निपटा दिल्ली वापस नहीं लौट आते .. मेरा यकीन मानो दिल्ली का कचरा अपने आप साफ़ हुआ समझो .. ..

पर मुझे मालुम है कि ना तुम मेरी सलाह मानोगे और ना मोदी तुम्हारी बात .. और मोदी भी चुनाव प्रचार के लिए दिल्ली से बाहर जाएंगे ही .. शर्तिया !! .. तुममें हो अक्ल या औकात तो रोक कर बताओ ना !! .. .. हा !! हा !! हा !! .. ..

मेरे 'fb page' का लिंक .. https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl

Tuesday, 17 January 2017

/.. चीन पर चीं चैं चौं करने-करवाने के उपरान्त .. अमेज़न पर भक्त चुप .. 'अमेज़िंग' !! .. है ना !! .. .. शायद चरखेवाले के भक्तों को तिरंगा और राष्ट्रपिता से अधिक 'सहिष्णुता' अब ज़्यादा भाने लगी है - अन्यथा अभी तक तो अमेज़न का हिंदुस्तान से बोरिया बिस्तर बंध गया होता .. है ना !! .. .. वैसे मैं सोच रहा था कि क्या ये वाकई 'सहिष्णुता' है ?? .. या फिर ऐसा तो नहीं कि अब भक्त भी फ़ोकट राष्ट्रप्रेम गौप्रेम गंगाप्रेम चरखाप्रेम आदि से स्वयं उक्ता गए हैं .. बेचारे !! .. क्योंकि हो यह रहा है कि देशप्रेम की बात हुई तो पाकिस्तान ने और अपने ही जवानों ने पोल खोल दी .. गौप्रेम की बात करी तो गोबर मत्थे पड़ गया .. गंगाप्रेम की बात करी तो लगा ये कहाँ कीचड में सर दे दिया .. और जैसे ही चरखाप्रेम ज़ाहिर किया मिर्ची युक्त चरखे-चरखे डायलॉग सुनने को मिल गए .. .. इसलिए आजकल थोड़ी शांति व्याप्त है - और ना ये 'अमेज़िंग' है ना 'सहिष्णुता' - ये तो भक्तों की लाचारी है !! ..../.... मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ


/.. मोदी जी आगे बढ़ो .. घबराना नहीं .. हिम्मत नहीं हारना .. और मेरी मुफ्त सलाह मान जाना !! .. .. यदि अखिलेश और राहुल का गठबंधन हो जाता है - तो मोदी जी आप एक कदम आगे रहकर मुलायम मायावती से गठबंधन कर लेना .. मेरा दावा है कि ऐसे तिकोणीय 'MMM' महागठबंधन का परिणाम "त्रिशंकु" ही निकल कर आएगा .. .. हा !! हा !! हा !! ..../.... मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ


/.. पगलाए भक्तों ने सोचा था कि नोटबंदी के ५० दिन बाद अब आएगा मज़ा - बटन दबाते मोदी को ये पता चल जाएगा कि कालाधन कहाँ पड़ा है .. पर हुआ कुछ यूँ कि मोदी कृपा से ऐसा एप आ गया कि बटन दबाते ये पता चलता है कि किस एटीएम में पैसा है .. .. वाकई मज़ा आ गया ना ?? ..../.... मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ