Thursday, 8 December 2016

/.. लाइनों में खड़े सभी बुद्धिजीवियों मजबूरों और बेवकूफों को आज सूचित कर दूं कि अभी-अभी एक हेयरलैस ने दिल्ली में प्रेस कांफ्रेंस कर आपसे ये अधिकारिक अपेक्षा कर दी है कि - यारों भूल जाओ ये या वो नोटबंदी क्या थी - कालाधन किस बला का नाम .. बस अब तो आप ध्यान दो कि ये डिजिटल पेमेंट क्या होता है - और कैशलेस क्या नई बला .. .. और मुझे लगा ये हेयरलैस शेमलैस भी है क्योंकि - जब ये प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ही रहा था ठीक उसी समय ये समाचार भी आया कि चेन्नई में ८ जगह पर छापों के दौरान १०० किलो सोने के साथ "७० करोड़ रूपए के 'नए नोटों' का कालाधन" पकड़ाया है .. .. और इसलिए मुझे लगा कि लाइनों में खड़े सभी बुद्धिजीवियों मजबूरों और बेवकूफों को आज सूचित कर ही दूं .. ../.. .. मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ


०८/१२/१६ /.. कुछ पढ़े लिखे से डकैती के लिए निकले .. और बड़े गोपनीय तरीके से एक जगह धावा भी बोल दिए .. पर कुछ भी कर पाते उसके पहले ही धरा गए .. .. लोगों ने गालियां निकाली तो पूरी बेशर्मी से हँसते रहे .. पूछा शर्म नहीं आती ?? .. बोले नहीं आती !! .. कोई अफ़सोस नहीं ?? .. किस बात का अफ़सोस ?? .. यानि जो किया सही किया ?? .. बिल्कुल सही किया - इरादे भी नेक थे - निर्णय भी सही था - बस "इम्प्लीमेंटेशन" में थोड़ी गड़बड़ी हो गई .. .. अभी और दिमाग चला रहे हैं .. ../ .. .. मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ


Wednesday, 7 December 2016

/.. जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों और पथराव करने वालों के बीच झड़प की खबरें आ रही हैं .. .. उफ़्फ़ !! लगता है ये नामुराद पत्थर फेंकने वाले झकोरे अब २००० का नोट भी बंद करवाएंगे ..../ .... मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ


/.. बुझे-बुझे लाल आडवाणी जी कह रहे हैं कि जो संसद नहीं चलने दे रहे उनको वेतन मत दो .. यानि फिर मोदी तो बिन वेतन ही फक़ीर हो जाएंगे - और झोला ले निकल जाएंगे .. .. तो फिर नया प्रश्न उठता है कि जब संसद में प्रश्न पूछे जाएंगे तो उनका जवाब कौन देगा ?? .. .. वैसे फर्क भी क्या पड़ेगा - क्योंकि जवाब अभी भी कौन दे रहा है ?? .. हा!! हा!! हा!! .. .. मसलन है कोई भाजपा का लाल जो सबको जगजाहिर बात बता दे कि गुजरात के शाह द्वारा घोषित १३-१४ हजार करोड़ कालेधन का असली वारिस कौन ?? ..../.... मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ


/.. कल तो कह रहे थे कि - मोदी टाइम के पर्सन ऑफ द ईयर .. आज कह रहे हैं नहीं - ट्रंप टाइम के पर्सन ऑफ द ईयर .. .. ठीक भी है - पल्टियों के लिए पलटी - फर्क क्या पड़ता है .. दोनों ही एक जैसे डेरिंग डायनामिक डैशिंग दिखने वाले अजीब से नेता ही तो लगते हैं .. .. पर हाँ मोदी ने अपने आपको सिद्ध कर दिया है और ट्रम्प को सिद्ध होना बचा है कि वो अजीब हैं .. .. यानि भारत रो रहा है .. अमेरिका रोएगा .. .. ये टाइम ही तो है जो बदलता रहता है ..../ .. .. मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ


/.. भाइयों और बहनों .. आज मैं आपसे पूछना चाहता हूँ .. जवाब दोगे ?? .. .. जिस व्यक्ति के फोटो की कीमत पूरे ५०० रु हो क्या वो फ़कीर कहलाएगा ?? .. या फिर फ़कीर नहीं तो क्या भिखारी कहलाएगा ?? .. या फिर भिखारी नहीं तो क्या साहेब कहलाएगा ?? .. या साहेब नहीं तो क्या डेरिंग डायनामिक डैशिंग हीरो कहलाएगा ?? .. .. चलो छोडो - मुश्किल नहीं आसान प्रश्न पूछता हूँ .. जो व्यक्ति जो कहे वो ना करके जो कभी नहीं कहे वही करे वो क्या कहलाएगा ?? .. .. या चलो ये बताओ .. जो व्यक्ति अपनी औकात के बाहर करतब करे वो समझदार कहलाएगा या पागल ?? .. .. क्या कहा कुछ नहीं मालूम ?? .. तो जनाब आप जान लीजिये कि अभी आप मोदी जी को पहचानते नही हैं या पहचानने में भूल कर गए हैं .. ../.. .. मेरे दिमाग की बातें - दिल से .. ब्रह्म प्रकाश दुआ