Saturday, 17 February 2018

// सुंजवां मामले में अब तो एफआईआर नेहरू और वंशजों के खिलाफ बनती है.. ..//


अब नई बात बता रहे हैं - सुंजवां कैंप हमले के आतंकवादी पाकिस्तान से 7 महीने पहले ही जम्मू-कश्मीर में घुस आए थे..

पर मुझे लगता है कि 7 महीने गलती से बता दिया होगा - क्योंकि 7 महीने पहले तो मोदी राज ही था..

तो मुझे लगता है 7 महीने नहीं 7 साल बोलना होगा - यानि यूपीए के राज में घुसना बताना होगा..

या फिर 70 साल बोलना होगा - क्योंकि हो सकता है 70 साल पहले नेहरू के राज में आए हों और उनकी औलादें ही कुछ काड़ी कर गई हों..

इसलिए मुझे लगता है कि अब जिम्मेदारों ने नेहरू और उनके वंशजों के खिलाफ एफआईआर करवा ही देनी चाहिए.. आखिर मामला राष्ट्रीय सुरक्षा का हो संवेदनशील जो है..

ब्रह्म प्रकाश दुआ
'मेरे दिमाग की बातें - दिल से':- https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl

// राष्ट्र के बाप का घपला घोटाला ही - सभी घपले घोटालों का बाप है.. ..//


अब भारत में घपला घोटाला कोई भी करे कैसे भी करे कितना भी करे कभी भी करे - क्या फर्क पड़ता है ??..

क्योंकि चाहे जितनी भी शिकायत हो जाए - घपला घोटाला लाख जग जाहिर हो सार्वजानिक भी हो जाए - क्या फर्क पड़ता है ??.. मोदी राज में घपला घोटाला जब भी कोई भी पकड़ेगा - पकड़ेगा तो मोदी ही..

यानि अब आप एक नई बात समझ लें..

भक्तों के मोदी जी ही राष्ट्र के प्रधानमंत्री हैं - राष्ट्र के प्रधानसेवक हैं - राष्ट्र के चौकीदार हैं - राष्ट्र के उपदेशक हैं - राष्ट्र के शिक्षक हैं - राष्ट्र के चिंतक हैं - राष्ट्र के स्टैंडअप नायक हैं - राष्ट्र के सैनिक हैं - और राष्ट्र के प्रधान पुलिसवाले भी हैं - थानेदार भी हैं.. और राष्ट्र के बाप भी.. 

यानि मोदी ही सर्वेसर्वा हैं..
और क्योंकि मोदी नकारा भी हैं - इसलिए स्थितियां हर क्षेत्र हर मोर्चे पर विकट हो चली हैं..

और अब तक हर क्षेत्र में घपले घोटाले भ्रष्टाचार के बढ़ चढ़कर जारी रहने के बावजूद किसी भी घपले घोटाले के विरुद्ध कुछ भी कार्यवाही नहीं होना ही अपने आप में मोदी का सबसे बड़ा घपला घोटाला है.. और मोदी की संदेहास्पद चुप्पी ही उनकी स्वीकारोक्ति भी है.. 

या यूँ कहें राष्ट्र के बाप का घपला घोटाला ही सभी घपले घोटालों का बाप है..

इसलिए थोड़ी थोड़ी चिंता सभी करें क्योंकि ये मामला अब तो सबके लिए ही अति चिंतनीय है.. और जब सब चिंता करेंगे तो समझेंगे भी और फिर कुछ करेंगे भी.. और तब ही कुछ होकर रहेगा !!..

ब्रह्म प्रकाश दुआ
'मेरे दिमाग की बातें - दिल से':- https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl

अब हमारी रक्षामंत्री फुरसत में हैं.. और वित्तमंत्री जेटली कसरत में व्यस्त..


// टुच्चों की अद्‌भुत गिनती जारी है.. मेरी अद्‌भुत टुच्चों की गिनती जारी है.. ..//


नीरव मोदी के गिन-गिन 35 ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी भी हो गई और पलक झपकते 5649 करोड़ रूपए के हीरे-आभूषण की गिनती मूल्यांकन आदि ठीक-ठीक पूरा हो कर जब्ती भी हो गई.. सटीक !!.. अद्‌भुत !!..

उधर नोटबंदी के बाद आरबीआई द्वारा पुराने नोटों की गिनती अनवरत अब तक जारी है.. लगन और परिश्रम की पराकाष्ठा !!.. और अद्‌भुत भी !!..

इसलिए मेरी गिनती भी जारी है..

आजकल मैं धराए गए फरार टुच्चों की गिनती - धराए पर तड़ीपार कर दिए गए टुच्चों की गिनती - धराए जा रहे टुच्चे बली के बकरों की गिनती - और कभी ना धराए जाने वाले माननीय चोर उच्चक्कों लुटेरों टुच्चों की गिनती कर रहा हूँ..

काम थोड़ा मुश्किल है पर जैसे ही आरबीआई के पुराने नोटों की गिनती टुच्चों ने बताई नहीं.. मैं अद्‌भुत टुच्चों की गिनती बता दूंगा .. पक्का वादा !!

ब्रह्म प्रकाश दुआ
'मेरे दिमाग की बातें - दिल से':- https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl

// मनमोहन कमज़ोर मोदी तेजतर्रार ??.. सावधान !!.. आगे केजरीवाल.. ..//


मोदी और भक्तों के अनुसार मनमोहन सिंह एक कमज़ोर प्रधानमंत्री थे.. और उनके कार्यकाल में भयंकर भ्रष्टाचार हुए..

मोदी एक डेरिंग डैशिंग डायनामिक प्रधानमंत्री होने का दावा करते हैं - क्योंकि वो भक्तों को तेजतर्रार जैसे दिखते हैं.. और इनके कार्यकाल में भी भ्रष्टाचार बदस्तूर बढ़ चढ़कर जारी तो है ही पर मनमोहन सिंह के कार्यकाल के भ्रष्टाचार का एक पैसा भी मोदी वसूल ना सके और एक चूहे को भी जेल भेज ना सके..

तो अब कल्पना करें कि क्या मोदी के कार्यकाल के भ्रष्टाचार का भी यही हश्र होगा.. कोई पकड़ा नहीं जाएगा ??.. और एक पैसा वसूला ना जाएगा ??..

और उत्तर है.. कि शायद ऐसा ही होगा..
पर शायद ऐसा ना भी हो.. और ऐसा केवल तब ना होगा जब केजरीवाल या केजरीवाल जैसे कुछ और इन टुच्चों के खिलाफ और असरदार होंगे..

और मैं ऐसा इसलिए कह रहा हूँ कि देश में भ्रष्टाचार के विरुद्ध आवाज़ उठाने और कुछ बदलाव की बयार बहाने का श्रेय केजरीवाल को ही जाता है..

मुझे तो आज भी भारतीय राजनीति में एक केजरीवाल ही पुख्ता रूप से ऐसा नेता लगता है जो कमज़ोर नहीं ताकतवर है - लल्लू नहीं तेज तर्रार है - डरपोक नहीं हिम्मतवाला है - अनपढ़ नहीं पढ़ा-लिखा है - नालायक नहीं काबिल है - बेईमान नहीं ईमानदार है - आलसी भी नहीं बल्कि मेहनती है - और ख़ास नहीं अपने आपको आम ही मानता है - और सबसे अलग ये कि वो सामान्य साधारण ही नहीं क्रांतिकारी भी है.. और मोदी पर भारी भी है..

और इसलिए मेरा विश्वास है कि केजरीवाल निकट भविष्य में सत्ता में मजबूती से उभरेंगें और तब ही इस देश के गुनहगार उचित और कड़ी सजा भुगतेंगे.. तब इन चोर डाकुओं को शायद कोई नहीं बचा पाएगा !!.. इन्हें तो केजरीवाल से खुद केजरीवाल भी नहीं बचा पाएगा..

और तब तक.. इन तमाम टुच्चों के द्वारा की जा रही मनोरंजक या खेदजनक टाइप बहसें - मसलन - तू डाकू वो चोर.. तू बाजारू वो घरेलु.. तू मुसलमान वो हिन्दू.. तू कोंग्रेसी वो भाजपाई.. तू भैस वो गाय.. तू सूअर वो गधा.. तू बेशर्म वो नीच.. तू लल्लू वो नपुंसक.. तू दोषी वो आरोपी.. तू नीचा वो नीच.. तू रोया वो हंसी.. आदि सुनते रहें - मज़े भी लेते रहें और अभी कुछ समय और सहन भी करते रहें - क्योंकि मजबूरी का नाम मोदी और ना-ना प्रकार के मोदी..

और इंतज़ार करें कुछ क्रांतिकारियों के आने का.. और नींद से जागती अंगड़ाई लेती जनता के "जाग्रत" होने का.. !! जय हिन्द !!

ब्रह्म प्रकाश दुआ
'मेरे दिमाग की बातें - दिल से':- https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl

Friday, 16 February 2018

गरीब कब से केवल परीक्षा ही तो दे रहा है.. बिना किसी परिणाम के..


// "बड़ेवालों" की मासूम आपत्ति - "छोटा" क्यों कह रहे ??.. ..//


अल्टी पल्टी उल्टी सल्टी मारने में पारंगत भाजपाई रविशंकर प्रसाद नीरव मोदी को "छोटा मोदी" कहने पर 'आगकमला' हुए जा रहे हैं - और कह रहे हैं..

ये "छोटा मोदी" क्या होता है ??.. जबकि घोटालेबाज़ का नाम है नीरव मोदी !!..

मेरी प्रतिक्रिया..

छुइयों-मुइयों ढोंगियों - बड़े मोदी पप्पू को "शहज़ादे" क्यों बोलते थे ??.. जबकि उनका नाम राहुल गांधी था.. और उनके पिताश्री राजीव गाँधी कहीं के शहंशाह नहीं थे..

जबकि नीरव की उम्र तो नरेंद्र से कम ही है - और इसलिए नीरव छोटे हुए और नरेंद्र बड़े हुए !!.. 

अब जब छोटे ने कमल छाप गुल खिलाने शुरू कर दिए और वो भी मोदी ही है तो उसे "छोटा मोदी" कह दिया तो इसमें गलत या अतार्किक क्या हो गया ??.. ऐसा कौन सा पहाड़ टूट गया या अट्टहास लग गया या किसी ने गाली ही दे दी ??..

अरे 'नसीबवालों' 'रामज़ादों' - कभी तो अपने गंदे गिरेबान में भी झाँक लिया करो रे !!..

ब्रह्म प्रकाश दुआ
'मेरे दिमाग की बातें - दिल से':- https://www.facebook.com/bpdua2016/?ref=hl